Global Vision
www.glovis.in
Get Your Own Website @ Cheapest Rates.
Global Vision
www.glovis.in
Need a Newsportal Like This? +91-8770220567.
Breaking News

लाइव

आपकी राय

बॉलीवुड का टॉप एक्शन हीरो आप किस मानते हैं?

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मौजूदगी में होगा देश के पहले ई रिक्शा कैफे का शुभारंभ, 26 घंटे से ज्यादा रहेंगे बस्तर में

दंतेवाड़ा/जगदलपुर।राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद बुधवार को दंतेवाड़ा प्रवास पर रहेंगे। दंतेवाड़ा के नवाचारों को दिखाने भव्य तौर पर प्रशासन तैयारी कर रहा है। सबसे खास होगा ई रिक्शा कैफे। देश में पहली बार ई रिक्शा कैफे का शुभारंभ राष्ट्रपति की मौजूदगी में होगा। इसका संचालन दंतेवाड़ा में महिलाएं करेंगी। इसके लिए झोड़ियाबाड़म के कुबेर नारी स्वसहायता समूह की महिलाएं तैयार हो गई हैं।

ई रिक्शा कैफे हीरानार पहुंच गया है। महिलाओं के इस ई रिक्शा कैफे को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हीरानार प्रवास पर देखेंगे और इसके बाद से महिलाएं अपने कैफे की शुरुआत कर आर्थिक सशक्तिकरण की ओर आगे बढ़ेंगी।

इस ई रिक्शा में महिलाएं न केवल कैफे बल्कि सवारी भी बिठा सकेंगी। एक ही समय में दो काम कर अच्छी आमदनी महिलाएं कर सकेंगी। हालांकि अफसरों का दावा है कि दंतेवाड़ा प्रदेश का पहला जिला है जहां इस तरह का नवाचार हो रहा है।


ई-रिक्शा का पहला चार्जिंग सेंटर हीरानार में तैयार
इस कैंपस में ई-रिक्शा के लिए दंतेवाड़ा का पहला चार्जिंग सेंटर तैयार किया गया है। जहां महज डेढ़ से दो घंटे में ही ई-रिक्शा चार्ज हो सकेगा जबकि सामान्यतः इलेक्ट्रिक बोर्ड में करीब 6 से 7 घंटे का वक्त ई-रिक्शा को चार्ज होने में लगता है। यह चार्जिंग सेंटर भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को दिखाया जाएगा।

चंपा के ई-रिक्शा में बैठेंगे कोविंद, पहले मनरेगा मजदूर थी
राष्ट्रपति हीरानार के जैविक कृषि समन्वय हब पहुंचेंगे। मुख्य द्वार पर पहुंचते ही कासोली की चंपा अटामी ई-रिक्शा लेकर तैयार रहेगी। राष्ट्रपति के यहां पहुंचते ही उन्हें अपने ई-रिक्शा में बैठाकर परिसर के अंतिम छोर तक लेकर जाएगी जहां किसान समूहों से राष्ट्रपति चर्चा करेंगे।

चंपा ने बताया कि जांगला में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रवास के वक्त वह भी गई थी, लेकिन प्रदर्शनी में ही उसे केवल खड़े होने का मौका मिला था। इच्छा थी कि उसके ई-रिक्शा में पीएम, सीएम या कोई मंत्री कभी बैठें। अब सीधे राष्ट्रपति मेरे रिक्शा की सवारी करेंगे। इससे बड़ी खुशी की बात और कुछ नहीं हो सकती।

दरअसल चंपा कासोली की वह युवती है, जो मनरेगा में मजदूरी कर परिवार का जीवन चलाती थी। सालभर के अंदर सरकारी योजनाओं से तकदीर ऐसी बदली कि वह अब हर महीने 25 से 30 हजार रुपए कमाने लगी है।


पांच ई-रिक्शा रहेंगे :हीरानार में पांच ई-रिक्शा रहेंगे। चंपा के रिक्शे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व उनकी पत्नी बैठेंगी। सरिता के रिक्शे पर मुख्यमंत्री डाॅ. रमन सिंह सवारी करेंगे। सविता वही महिला है जिसके ई-रिक्शा की सवारी जांगला में पीएम व सीएम ने की थी। दो रिक्शा दंतेवाड़ा के पहले चार्जिंग सेंटर पर लगे होंगे। एक पर महिलाओं का ई रिक्शा कैफे होगा जो राष्ट्रपति को दिखाया जाएगा।

नक्सलियों ने पिता छीना बेटी पढ़ाएगी राष्ट्रपति को
इंद्रावती नदी पार नक्सलगढ़ गांव बोड़ला की रहने संध्या नेताम दूधमुंही ही थी, तब उसके पिताजी व बड़े पिताजी की नक्सलियों ने हत्या कर दी थी। अब बुधवार को उसके लिए सबसे बड़ा पल होगा, क्योंकि वह बच्ची अब देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के लिए तीन मिनट की शिक्षिका बनकर उन्हें सुपर स्मार्ट क्लास में पढ़ाएगी।

संध्या इसके लिए करीब 5 दिनों से तैयारी कर रही है। संध्या नेताम आस्था स्कूल में 8वीं की छात्रा है। 2003 में नक्सलियों ने पहले उसके बड़े पिताजी की हत्या की थी। इसके तीन साल बाद उसके पिता को मारा था। नक्सलियों के फरमान पर उसके पूरे परिवार ने गांव छोड़ दिया था। घर की माली हालत ठीक नहीं होने से पोटा केबिन में प्रारंभिक शिक्षा हुई।

2013 से वह आस्था स्कूल में पढ़ाई कर रही है। भास्कर से चर्चा में संध्या ने कहा वह बेहद खुश है कि उसे राष्ट्रपति को पढ़ाने का इतना बड़ा मौका मिल रहा है। नक्सल हिंसा पीड़ित छात्रा संध्या के पिता का नाम बुधराम है। पिता को नक्सलियों ने जिंदा जलाकर पूरे परिवार को गांव छोड़ने का फरमान जारी किया था। नक्सलियों के भय से संध्या का परिवार गांव छोड़ने मजबूर हुआ था।

26 घंटे 10 मिनट बस्तर में गुजारेंगे राष्ट्रपति
राष्ट्रपति के बस्तर प्रवास की तैयारियां पिछले 10 दिनों से चल रही है। इस बीच अब यह साफ हो गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 25 और 26 जुलाई को बस्तर में कुल 26 घंटे 10 मिनट का समय बिताएंगे। राष्ट्रपति बुधवार सुबह 10.30 बजे वे जगदलपुर हवाईअड्डे पर उतरेंगे, जहां सीएम डाॅ. रमन सिंह उनका स्वागत करेंगे।

महत्वपूर्ण यह है कि राष्ट्रपति अपने बस्तर प्रवास के दौरान सब से ज्यादा समय एक घंटा 5 मिनट तक दंतेवाड़ा जिले के हीरानार में वनवासी कल्याण आश्रम में रुकेंगे। वहां वे बच्चों के साथ दोपहर का भोजन भी करेंगे। हालांकि हीरानार में ही वे किसानों, महिलाओं से बातचीत करेंगे। यहां 20 मिनट का अलग से कार्यक्रम तय है।

इसी तरह दूसरे किसी प्रोग्राम में जहां वे ज्यादा टाईम देंगे वो बस्तर जिले के डिमरापाल में स्थित मेडिकल कॅालेज के उद्घाटन में हैं। 26 जुलाई को राष्ट्रपति वहां 60 मिनट तक रुकेंगे। दिन में 11 बजे पहुंचकर दोपहर 12 बजे वे एअरपोर्ट के लिए निकल जाएंगे।

Team,
The अख़बार

आप हमे अपने समाचार भी भेज सकते है, भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे या हमे Whatsapp करे +91 8770220567...


आप हमारे ताज़ा समाचार सीधे अपने WhatsApp पर प्राप्त कर सकते है अपने मोबाइल से इस लिंक पर क्लिक करे...
शेयर करे...

वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Facebook

Connect With Us

Contact Us

 

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

www.theakhbar.in