Global Vision
www.glovis.in
Get Your Own Website @ Cheapest Rates.
Global Vision
www.glovis.in
Need a Newsportal Like This? +91-8770220567.
Breaking News

लाइव

आपकी राय

बॉलीवुड का टॉप एक्शन हीरो आप किस मानते हैं?

बस्तर दशहरा: जोगी बिठाई की रस्म हुई पूरी

बस्तर संभागीय जनसंपर्क कार्यालय द्वारा प्राप्त.

Theअखबार


जगदलपुर, 17 अक्टूबर 2020/ दशहरा पर्व का महत्वपूर्ण विधान जोगी बिठाई की रस्म शनिवार शाम सिरहासार भवन में पूरी की गई। लगभग छह सौ बरसों से चली आ रही परम्परा के अनुसार आमाबाल गांव के भगत राम को विधि-विधान से मावली देवी की पूजा-अर्चना के बाद सिरहासार भवन पहुंचाया गया। इसके बाद जोगी नौ दिनों के तप के लिए बनाए गए गड्ढे में बैठे। जोगी बिठाई की रस्म के अवसर पर सांसद एवं बस्तर दशहरा समिति के अध्यक्ष श्री दीपक बैज, जगदलपुर राजपरिवार के सदस्य, कलेक्टर श्री रजत बंसल सहित बस्तर दशहरा समिति के सदस्य, मांझी, चालकी, मेम्बरीन आदि उपस्थित थे।

IMG 20201017 WA0105

बस्तर जनपद के ग्राम बड़े आमाबाल के जोगी परिवार के वशंज जोगी के रूप में नौ दिनों तक बैठते हैं। शनिवार शाम सिरासार भवन में मांझी-चालकी व पुजारी की मौजूदगी में जोगी को नए वस्त्र पहनाए गए। तदुपरांत उसे गाजे-बाजे के साथ कपड़ों के पर्दे की आड़ में सिरासार के पास स्थित मावली माता मंदिर ले जाया गया। 

IMG 20201017 WA0106 

मावली मंदिर में पुजारी द्वारा दीप प्रज्जवलन किया गया। देवी की पूजा-अर्चना उपरांत वहां रखे तलवार की पूजा की गई। इसके बाद उक्त तलवार लेकर जोगी वापस सिरासार भवन में पहुंचे। पुजारी के प्रार्थना उपरांत जोगी नौ दिनों तक साधना का संकल्प लेकर गड़ढे में बैठे।

साधना काल में जोगी की सेवा-सुषुश्रा के लिए आमाबाल से ग्रामीण आए हुए हैं।  मान्यता है कि जोगी के तप से देवी प्रसन्न् होती हैं तथा विशाल दशहरा पर्व निर्विघ्न संपन्न होता है।

उल्लेखनीय है कि यहां जोगी बिठाई की रस्म 6 सौ से भी अधिक वर्षों से एक ही परिवार निभा रहा है । नवरात्र की शुरुआत के साथ ही मां दन्तेश्वरी के प्रथम पुजारी के रूप में जोगी 9 दिनों तक एक ही जगह बैठकर कठिन व्रत रखते हैं। दरअसल, देवी की उपासना बस्तर राजा को करनी होती थी ताकि यहां खुशहाली रहे लेकिन 9 दिनों तक राजा की जगह जोगी को देवी की उपासना के लिए बैठाया जाता है और आज भी ये परंपरा जारी है, जिससे दशहरे का पर्व शांतिपूर्ण तरीके से मनाया जा सके। बड़े आमाबाल के 40 वर्षीय श्री भगत नाग इस वर्ष फिर से जोगी के रूप में दशहरे की सफलता के लिए तप में बैठे। यह निरन्तर तेरहवाँ साल है, जब श्री भगत तप में बैठे हैं।

फुलरथ परिक्रमा रविवार से

बस्तर दशहरा का प्रमुख आकर्षण फुलरथ परिक्रमा रविवार से प्रारंभ होगा। उल्लेखनीय है कि बस्तर दशहरा में  अश्विन शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि तक प्रतिदिन फूल रथ का गोल बाजार जगदलपुर में परिक्रमा कराया जाता है। रथ खींचने के लिए जगदलपुर तहसील के 32 और तोकापाल तहसील के 4 ग्रामों के युवा  रथ खींचने के लिए आते हैं।


Team,
The अख़बार

आप हमे अपने समाचार भी भेज सकते है, भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे या हमे Whatsapp करे +91 8770220567...


आप हमारे ताज़ा समाचार सीधे अपने WhatsApp पर प्राप्त कर सकते है अपने मोबाइल से इस लिंक पर क्लिक करे...
शेयर करे...

वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Facebook

Connect With Us

Contact Us

 

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

www.theakhbar.in