Global Vision
www.glovis.in
Get Your Own Website @ Cheapest Rates.
Global Vision
www.glovis.in
Need a Newsportal Like This? +91-8770220567.
Breaking News

लाइव

आपकी राय

बॉलीवुड का टॉप एक्शन हीरो आप किस मानते हैं?

Exclusive / देश भर में फसे बस्तर के मज़दूर, तरस रहे घर वापसी को


The अख़बार Exclusive : देश भर के कई हिस्सो में फसे बस्तर के मज़दूर, तरस रहे घर वापसी को



जगदलपुर: लॉक डाउन के चलते बस्तर जिले के सैकड़ों मजदूर अन्य राज्यों में फंसे हुए हैं जो कि अपने घर आना चाहते हैं, यह मजदूर अपने गृह जिला से सैकड़ों किलोमीटर दूर जाकर अपने जीवन निर्वहन के लिए गए हुए थे जो कि अब लॉक डाउन के चलते अन्य राज्यों में फस गए हैं एवं जानकारी के अभाव में लोगों से मदद भी मांगने का प्रयास कर रहे हैं। इन मजदूरों को किसी माध्यम से हमारी टीम से संपर्क किया, हमारे प्रधान संपादक विमलेंदु झा से उन्होंने बात की, मजदूरों ने अपनी बात खबरों के ज़रिये सरकार तक पहुंचाने का आग्रह किया।

आइये देखे ये स्पेशल रिपोर्ट इस वीडियो में -  

 

 

हमारी टीम ने तत्परता से एवं इन लोगों को जल्द से जल्द इनके निवास तक पहुंचाने हेतु प्रयास प्रारम्भ किया और जहां जहां संभव हुआ वहां संपर्क भी करने की कोशिश की गई एवं इनकी आपबीती मोबाइल के माध्यम से वीडियो एवं ऑडियो के द्वारा जानकारी एकत्र की गई और इनकी समस्या को प्रसारित करने का बेड़ा भी उठाया। इन गांव वालों की व्यथा सुनकर सबका दिल द्रवित हो जाएगा। इन मजदूरों के गोद में दूधमुहे बच्चे तक साथ में है। जानकारी के मुताबिक बैंगलोर के नज़दीक विजयनगर में बस्तर के लगभग 200 मजदुर जिनमे बच्चे भी शामिल है फसे हुए है वही, आंध्राप्रदेश के गुंटूर में बस्तर के 14 श्रमिक घर आने की आस लगाए बैठे है. 


इस वैश्विक महामारी कोरोना के कारण शासन द्वारा जो बाहर फंसे हुए हैं उनकी सुविधा के लिए बहुत सी योजनाएं आ गई हैं कहीं - कहीं टीवी, रेडियो और सोशल मीडिया द्वारा प्रचारित भी किया जा रहा है परंतु इस पर कुछ स्थानों पर काम की दृष्टि से देखा जाए तो सिर्फ योजना के बारे में ढोल में पोल नजर आता है। कुछ राज्यों ने न तो ऐसे मामलों को गंभीरता से लिया ना ही अंजाम देने की कोशिश में लगे हैं। बस्तर जिला से गए हुए अन्य राज्यों में जो मजदूर फंसे हुए हैं वह बहुत सी बातों को जानते भी नहीं एवं उन लोगों को भाषाई और बोली का भी ज्ञान ना होने के कारण लोगों को अपनी समस्या बताने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है यह तो स्वयं समझने वाली बात है।


सर्वविदित है कि बस्तर संभाग का क्षेत्रफल बहुत ही विशाल है एवं आदि काल से ही यहां पर आदिवासी जनजाति के लोगों की बहुतायत है और सभी को मालूम है कि बस्तर के आदिवासी का स्वाभाव सीधा साधा एवं थोड़ा शर्मीला भी होता है और अपनी समस्याओं को बहुत ज्यादा लोगों के साथ नहीं बाँटते, बल्कि विषम से विषम परिस्थिति में भी अपने आप को ढालते है और संभवत अपने ही बलबूते पर अपनी समस्याओं का निराकरण भी स्वयं करने की कोशिश करते है। इन बातों को बताने से हमारा मुख्य मकसद यह है कि यह लोग अपनी समस्याओं को लेकर कहीं ज्यादा जा नहीं सकते एवं अपना दुखड़ा सही ढंग से बता भी नहीं सकते इस समाचार के माध्यम से केंद्र सरकार या राज्य सरकार से हम विनती करते है की उक्त बातों को ध्यान देते हुए एवं ऑडियो वीडियो के माध्यम से लोगों की समस्याओं को देखते हुए त्वरित कार्यवाही करें ताकि इन लोगों को इस भयावह परेशानी से निजात मिल सके।

 

सभी मजदूरों की पूरी जानकारी The अख़बार के पास सुरक्षित है.


विमलेन्दु शेखर झा (प्रधान संपादक)

+91 8319895198


Team,
The अख़बार

आप हमे अपने समाचार भी भेज सकते है, भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे या हमे Whatsapp करे +91 8770220567...


आप हमारे ताज़ा समाचार सीधे अपने WhatsApp पर प्राप्त कर सकते है अपने मोबाइल से इस लिंक पर क्लिक करे...
शेयर करे...

वीडियो

प्रमुख ख़बरें

भारत की प्रतिक्रिया/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता है चीन

भारत की प्रतिक्रिया/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता है चीन

भारत को निमंत्रण/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता हैचीन The अख़बार: भारत चीन रिश्ते...

एजाज़ शाह को पाकिस्तान सरकार में आंतरिक मंत्री बनाये जानें के मायनें?

एजाज़ शाह को पाकिस्तान सरकार में आंतरिक मंत्री बनाये जानें के मायनें?

एजाज़ शाह पाकिस्तान कैबिनेट में आतंरिक मंत्री नियुक्त लादेन की मदद करनें और भारत विरोधी...

Facebook

Connect With Us

Contact Us

 

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

www.theakhbar.in