भारतीयता के परिप्रेक्ष्य में आज भी प्रासंगिक हैं महात्मा गांधी के विचार

Category: बस्तर Written by वेदांत झा Hits: 429
  1. जगदलपुर . अखिल भारतीय शांति एवं एकजुटता संगठन के तत्वावधान में गांधी जी की 150 वें जयंती वर्ष में अत्यंत महत्वपूर्ण विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। पत्रकार भवन में आयोजित इस कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री एस.करीमुद्दीन ने की। उद्बोधन दिया प्रो एम अली सैयद , हिमांशु शेखर झा, योगेन्द्र मोतीवाला ,सतीश तिवारी ने। विशिष्ट वक्ताओं ने भारत की प्राचीन से लेकर वर्तमान काल तक व्याप्त व्यापक सहअस्तित्व, समन्वयकारी सहिष्णुता की चर्चा करते हुए कहा कि इस पर किसी तरह का संकट नहीं आना चाहिए ।
  2. महात्मा गाँधी के विचारों को व्यवहार में लाना आज की महत् आवश्यकता है । इस अवसर पर श्री मदन आचार्य एम. ए. रहीम जगदीश दास मदन दुबे मनोहर लुनिया योगेन्द्र राठौर श्री निवास जोशी दशरथ कश्यप गायत्री आचार्य उर्मिला आचार्य विमलेन्दु शेखर झा प्रकाश चंद्र जोशी शोएब अख्तर श्रीनिवास रथ सहित बड़ी संख्या में बस्तर के बुद्धिजीवी उपस्थित थे । संगठन की कार्यकारिणी तथा पदाधिकारीगणों सर्वसम्मति से मनोनयन किया गया। प्रो. अली एम. सैयद को अध्यक्ष तथा प्रकाश चंद्र जोशी को सचिव का दायित्व सौंपा गया।

  1. कार्यक्रम में छबिलाल सिदार, दिनेश कुमार दीवाकर, चन्द्र प्रकाश यादव, मोहम्मद शोएब अंसारी, देवदास कश्यप, मानसिंह कश्यप, एस.के. श्रीवास्तव, शैलेन्द्र दुबे, मदन दुबे, सदन सिंह नाग, दशरथ सिंह कश्यप, पी. जी. राव, गायत्री आचार्य, भारत महाराणा, डॉ. राजेश थांथराटे, शशांक श्रीधा, वेदान्त झा, इशाक खोरा, भारत कुमार गंगादित्य, उर्मिला आचार्य, प्रकाश चन्द्र जोशी, सुभाष श्रीवास्तव, लछिंधर बघेल, पी. लक्ष्मीनारायण शामिल थे।
शेयर करे...