Global Vision
www.glovis.in
Get Your Own Website @ Cheapest Rates.
Global Vision
www.glovis.in
Need a Newsportal Like This? +91-8770220567.
Breaking News

लाइव

आपकी राय

बॉलीवुड का टॉप एक्शन हीरो आप किस मानते हैं?

बना राज्य का २८वाँ आदिवासी बहुल जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही


पेंड्रा. छत्तीसगढ़ में नवगठित जिले गौरेला-पेंड्रा-मरवाही सोमवार को अस्तित्व में आने जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कुछ देर बाद इसका औपाचारिक ऐलान करेंगे। इसके साथ ही राज्य में 28 जिले अपना स्वरूप ले लेंगे। मुख्यमंत्री बघेल ने 15 अगस्त को गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले की घोषणा की थी।

तीन तहसील और तीन विकासखंड होंगे पूरे जिले में


बना राज्य का २८वाँ आदिवासी बहुल जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही

नवगठित जिले में तीन तहसील तथा तीन विकासखंड गौरेला, पेंड्रा और मरवाही शामिल होंगे। इसमें 166 ग्राम पंचायतें, 222 गांव और 2 नगर पंचायत गौरेला और पेंड्रा समाहित होंगी। जिले का क्षेत्रफल 1 लाख 68 हजार 225 हेक्टेयर होगा। जिले में मरवाही विधानसभा के 200 गांव और कोटा विधानसभा के 25 गांव, कोरबा लोकसभा क्षेत्र के 200 गांव और बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के 25 गांव समाहित होंगे।

यह है नए जिले की खासियत, औषधीय पौधे यहां की पहचान

गौरेला-पेंड्रा-मरवाही क्षेत्र पत्रकारिता में अपनी अलग पहचान रखता है। छत्तीसगढ़ का प्रथम समाचार पत्र छत्तीसगढ़ मित्र का प्रकाशन मासिक पत्रिका के रूप में पेंड्रा से वर्ष 1900 में पंडित माधवराव सप्रे के संपादन में प्रकाशित हुआ था। खनिज संपदा और औषधीय पौधे यहां की पहचान है। यहां के विष्णुभोग चावल की महक पूरे देश में फैली है।

इसलिए बनाया नया जिला

गौरेला पेंड्रा मरवाही जिला दूरस्थ वनांचल में स्थित है। जिला मुख्यालय बिलासपुर से मरवाही तहसील के अंतिम छोर की दूरी लगभग 165 किलोमीटर है। जनसामान्य को शासकीय कार्य के लिए जिला मुख्यालय बिलासपुर आने जाने में अत्यधिक समय व संसाधन लगता है। जिला पूर्णता अधिसूचित क्षेत्र में है। अत: आदिवासी बहुल एवं विशेष पिछड़ी जनजाति तथा बैगा जनजाति के हितों के संवर्धन एवं विकास में मदद मिलेगी।

नवगठित जिले गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के उद्घाटन अवसर को यादगार बनाने की तैयारियां की गई हैं। कार्यक्रम में विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत, कोरबा सांसद ज्योत्सना महंत, बिलासपुर सांसद अरुण साहू, मरवाही विधायक व पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, कोटा विधायक रेणु जोगी शामिल सहित अन्य नेता शामिल होंगे। नवगठित जिले में दो संसदीय क्षेत्र कोरबा और बिलासपुर के अंतर्गत आते हैं। मरवाही और कोटा विधानसभा क्षेत्र में इस जिले में हैं। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष राजेंद्र प्रसाद शुक्ला की जयंती पर अस्तित्व में आने वाले जिले की अधिकांश सीमा मध्य प्रदेश से रखती है।


मरवाही की कुल आबादी का 57.09 % आदिवासी
स्वतंत्रता दिवस समारोह में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की घोषणा की थी। नया जिला बनने पर बिलासपुर की दो नगर पंचायत, 162 पंचायत और 225 गांव गौरेला-पेंड्रा-मरवाही में चले जाएंगे। तीन जनपद पंचायत, 74 पटवारी हल्का, तीन थाने, तीन आरआई सर्कल, मौसम वेधशाला भी जिले से अलग होकर नए जिले में शामिल होंगे। वहीं वन क्षेत्र भी नए जिले में 2307.38 वर्ग किमी होगा। वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार, जिले की नए जिले की आबादी 3 लाख 36 हजार 420 है, इसमें 57.09 फीसदी यानी 1 लाख 92 हजार 73 आदिवासी हैं।


Team,
The अख़बार

आप हमे अपने समाचार भी भेज सकते है, भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे या हमे Whatsapp करे +91 8770285881...


आप हमारे ताज़ा समाचार सीधे अपने WhatsApp पर प्राप्त कर सकते है अपने मोबाइल से इस लिंक पर क्लिक करे...
शेयर करे...

वीडियो

प्रमुख ख़बरें

बना राज्य का २८वाँ आदिवासी बहुल जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही

बना राज्य का २८वाँ आदिवासी बहुल जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही

पेंड्रा. छत्तीसगढ़ में नवगठित जिले गौरेला-पेंड्रा-मरवाही सोमवार को अस्तित्व में आने जा रहा है। मुख्यमंत्री भूपेश...

भारत की प्रतिक्रिया/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता है चीन

भारत की प्रतिक्रिया/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता है चीन

भारत को निमंत्रण/ एक और द्विपक्षीय वार्ता करना चाहता हैचीन The अख़बार: भारत चीन रिश्ते...

Facebook

Connect With Us

Contact Us

 

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

www.theakhbar.in