Global Vision
www.glovis.in
Get Your Own Website @ Cheapest Rates.
Global Vision
www.glovis.in
Need a Newsportal Like This? +91-8770220567.
Breaking News

लाइव

आपकी राय

बॉलीवुड का टॉप एक्शन हीरो आप किस मानते हैं?

Raipur/ भगत सिंह से मिली प्रेरणा, सबसे कम उम्र के लोकसभा प्रत्याशी- प्रीतेश पाण्डेय


प्रीतेश पाण्डेय से खास मुलाकात

The अख़बार: विशेष रायपुर


इन दिनों “तुरही बजाता आदमी” एक चुनाव चिन्ह है, इसे लेकर रायपुर में खासी प्रतिक्रिया मिल रही है. दुनिया भर में युवा शक्ति का लोहा माना जाता है, लेकिन युवा शक्ति को सकारात्मकता की ओर मोड़ना बहुत बड़ी चुनौती होती है.  इन दिनों रायपुर कि सड़कों में अधिकतर नें एक नाम ज़रूर सुना है, क्योकि ये नाम एक ऐसे युवा का नाम है, जिसनें बिना किसी बड़े संसाधन और बिना किसी ताम झाम के रायपुर कि सड़कों पर एक तख्ती में अपनें विचार लेकर साथ में कुछ दोस्तों को लेकर उतर गया है चुनावी अखाड़े में ! परिणाम जो भी हो!.

प्रीतेश

इस सकारात्मक चनौती का एक उदाहरण पेश कर रहा है ये युवा प्रीतेश पाण्डेय जिन्होनें खैरागढ़ के इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय  से नाट्य कि शिक्षा फिर महात्मा गाँधी यूनिवर्सिटी वर्धा से इसी विषय में ऍम.फिल किया.

इस अखाड़े में पहले से ही भाजपा, कांग्रेस जैसी पार्टियों के बड़े और अनुभवी धुरंधर ज़रूर हैं, लेकिन प्रीतेश पाण्डेय उन सबमें सबसे अलहदा पहचान बना रहे है. इनकी टोली कभी सब्जी मंडी में, कभी शहर के मुख्य चौक-चौराहे पर तो कभी राजमार्ग में दिख जाते है, हाथ में तख्ती, पार्श्व से ढोल-नंगाड़े के साथ भीड़ को बुलाना और लोगों को अपनें विचार बताना.

प्रीतेश

दुनिया में जहाँ कहीं युवा शक्ति सही दिशा में मुड़ी है, वहीं उस स्थान को नई ऊचाई मिली हैं, लेकिन हमारे देश में अधिकतर युवा शक्ति व्यर्थ ही जा रही है. प्रीतेश से ये सवाल पूछनें पर उन्होनें बताया कि “मेरी प्रेरणा मुझे शहीद भगत सिंह से मिली, मैंने हमेशा से सुना है कि राजनीती एक दलदल है, इसमें जो भी जाता है, उसमें डूबता ही जाता है, लेकिन मेरे भीतर कही न कहीं ये बात ज़रूर थी कि मुझे भी राजनीति में आना है, भगत सिंह के लेख और प्रसंग पढ़ते हुए मुझे लगा ही क्यों न शुरुआत यहीं से कि जाये, और मैंने रायपुर से सांसद के लिए निर्दलीय पर्चा डाला.”

प्रीतेश

करना पड़ा विरोधों का सामना

प्रीतेश बताते हैं कि “जब मैंने पहले अपनी इच्छा ज़ाहिर की तो सबनें पागलपन समझा लेकिन अब लोग मदद कर रहे हैं, कुछ लोग अभी भी कुछ कहते हैं लेकिन मुझे फर्क नहीं पड़ता. मैं जनता हूँ भारत एक युवा देश है, भारत में युवाओं की जितनी संख्या है, उतनी और कहीं नहीं है. भारत के युवाओं में एक खासियत और है कि यहाँ के युवाओं में संस्कारी होतें है. पश्चिमी देशों में युवाओं के पथभ्रष्ट होने की काफी आशंका रहती है,  उसकी तुलना में भारत में ऐसे होने की आशंका बहुत कम है. इसलिए मुझे लगता है कि रायपुर के युवा अपनें विवेक से फैसला करेंगे, और ऐसे कैंडिडेट को चुनेंगे जो उनके बिच का है”

उन्होनें कहा कि “ आज का युवा समझ गया है कि जाती-धर्म के नाम पर झगडे और वोट के बदले नोट, कभी पंद्रह लाख कभी, बाहात्तर हज़ार कि बयानबजी इन मठधिपतियों कि चुनावीचाल है” “सोचनें वाली बात ये हैं कि ये लोग चुनावों के नाम पर लाखों-करोड़ो खर्च कर देतें हैं, और जीतनें के बाद उसकी वसूली हमसे करतें है, भ्रष्टाचार कि जड़ यही है, कि हम ऐसे कैंडिडेट को जीता देते हैं जो अपनें विज्ञापन पर ज्यादा पैसे खर्च कर रहा है, और उन खर्चो कि भरपाई पांच सालों में भ्रष्टाचार करके करता है“

 ख़ास कलम/ देश मेरा सिर्फ भू-खण्ड नहीं, महान वीर-वीरांगनाओं की पुण्यस्थली है....

हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें


Team,
The अख़बार

आप हमे अपने समाचार भी भेज सकते है, भेजने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे या हमे Whatsapp करे +91 8770285881...


आप हमारे ताज़ा समाचार सीधे अपने WhatsApp पर प्राप्त कर सकते है अपने मोबाइल से इस लिंक पर क्लिक करे...
शेयर करे...

वीडियो

प्रमुख ख़बरें

Facebook

Connect With Us

Contact Us

 

This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

www.theakhbar.in