इंडोनशिया में आई सुनामी में मरने वालों कि संख्या बढ़ कर 373 हुई

Category: वर्ल्ड Written by वेदांत झा Hits: 533

कैरिटा। इंडोनेशिया में शनिवार की रात ज्वालामुखी विस्फोट के हुआ जिसके बाद सुंडा जलसंधि के निकट आई भीषण सुनामी में मरने वालों की संख्या बढ़कर 373 हो गई है। आपदा राहत एजेंसी के प्रवक्ता ‘सुतोपो नुग्रोहो’ ने बताया कि सुनामी से 1459 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। वहीं 128 लापता हैं।

tsunami-in-indonasia

समुद्र की ऊंची लहरों ने अपने पीछे तबाही का मंजर छोड़ा है। दक्षिणी सुमात्रा और जावा के पश्चिमी तटों के आसपास होटल और इमारतों का मलबा पसरा हुआ है। पेड़ और बिजली के खंबे उखड़ गए हैं। सेना और पुलिस के जवान राहत व बचाव कार्य में लगे हुए हैं। अधिकारियों ने अभी और भयानक लहरों की चेतावनी जारी की है।
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सब कुछ इतनी तेजी से हुआ कि लोगों को बचने का कोई रास्ता ही नहीं सूझा। जिस समय समुद्र की ऊंची लहरों ने आसपास के इलाके को अपने आगोश में लेना शुरू किया, ठीक उसी वक्त तट के किनारे एक म्यूजिक कंसर्ट भी हो रहा था। देखते-देखते रॉक बैंड के सदस्यों समेत वहां जुटे सैकड़ों लोग बह गए। बैंड के दो सदस्यों की मौत हो गई, जबकि तीन लापता बताए जा रहे हैं।
भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आपदा पर दुख जताया है और दुख की इस घड़ी में इंडोनेशिया को भारत की ओर से साथ का भरोसा दिया है।इंडोनेशिया में छह महीने के भीतर यह तीसरी बड़ी प्राकृतिक आपदा है।
सितंबर में आए भूकंप और सुनामी के कारण 2,200 लोगों की जान चली गई थी, जबकि हजारों लोग लापता हो गए थे। माना जा रहा है कि लापता लोगों में से ज्यादातर की मौत हो चुकी है। इससे पहले जुलाई में आए भूकंप में 556 लोगों की मौत हुई थी। पीछे तबाही का मंजर छोड़ा है। दक्षिणी सुमात्रा और जावा के पश्चिमी तटों के आसपास होटल और इमारतों का मलबा पसरा हुआ है। पेड़ और बिजली के खंबे उखड़ गए हैं। सेना और पुलिस के जवान राहत व बचाव कार्य में लगे हुए हैं। अधिकारियों ने अभी और भयानक लहरों की चेतावनी जारी की है।
प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सब कुछ इतनी तेजी से हुआ कि लोगों को बचने का कोई रास्ता ही नहीं सूझा। जिस समय समुद्र की ऊंची लहरों ने आसपास के इलाके को अपने आगोश में लेना शुरू किया, ठीक उसी वक्त तट के किनारे एक म्यूजिक कंसर्ट भी हो रहा था। देखते-देखते रॉक बैंड के सदस्यों समेत वहां जुटे सैकड़ों लोग बह गए। बैंड के दो सदस्यों की मौत हो गई, जबकि तीन लापता बताए जा रहे हैं।
भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आपदा पर दुख जताया है और दुख की इस घड़ी में इंडोनेशिया को भारत की ओर से साथ का भरोसा दिया है।इंडोनेशिया में छह महीने के भीतर यह तीसरी बड़ी प्राकृतिक आपदा है।
सितंबर में आए भूकंप और सुनामी के कारण 2,200 लोगों की जान चली गई थी, जबकि हजारों लोग लापता हो गए थे। माना जा रहा है कि लापता लोगों में से ज्यादातर की मौत हो चुकी है। इससे पहले जुलाई में आए भूकंप में 556 लोगों की मौत हुई थी।

शेयर करे...